छत्तीसगढ़मौसम समाचार

मानसून की बेरूखी से किसान चिंतित, छत्‍तीसगढ़ में अभी तक 41 प्रतिशत कम हुई बारिश, सोमवार से मौसम होगा मेहरबान, होगी झमाझम बरसात..

अगले 3 घंटों में बिलासपुर, गौरेला पेंड्रा मरवाही, कोरबा, मनेंद्रगढ़ चिरमिरी, भरतपुर, सारंगढ़ बिलाईगढ़ में अलग-अलग स्थानों पर मध्यम बादल से जमीन पर बिजली गिरने की संभावना है।

छत्तीसगढ़ मौसम अपडेट : बस्तर क्षेत्र में समय से दो दिन पहले मानसून की एंट्री के बाद भी अन्य क्षेत्रों में मानसून पहुंचने में हुए विलंब के चलते छत्‍तीसगढ़ में अभी तक सामान्य से 41 प्रतिशत बारिश कम हुई है। मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार प्रदेश में अभी तक 95.4 मिमी बारिश हुई है, जबकि अभी तक की स्थिति में 160.9 मिमी बारिश होनी चाहिए थी।

मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार सरगुजा, जशपुर और गरियाबंद में सबसे कम बारिश हुई है। सरगुजा जिले में सामान्य से 77 प्रतिशत कम, जशपुर जिले में सामान्य से 74 प्रतिशत कम तथा गरियाबंद जिले में सामान्य से 60 प्रतिशत कम बारिश हुई है। इसी प्रकार रायपुर जिले में भी सामान्य से 13 प्रतिशत बारिश कम हुई है। अभी तक रायपुर जिले में 119 मिमी बारिश ही हुई है। विभाग का अनुमान है कि अगले सप्ताह सोमवार एक जुलाई से प्रदेश में बारिश का दायरा और बढ़ेगा।

मौसम विशेषज्ञ एचपी चंद्रा ने बताया कि एक चक्रीय चक्रवाती परिसंचरण उत्तर पश्चिम बंगाल की खाड़ी के ऊपर 1.5 किमी से 5.8 किमी ऊंचाई तक फैला है। इसके साथ ही एक विंड शेयर जोन 3.1 किमी से 5.8 किमी ऊंचाई तक स्थित है। इसके प्रभाव से शुक्रवार को प्रदेश के कई क्षेत्रों में हल्की से मध्यम बारिश होगी।

उत्तर छत्तीसगढ़ में ही ज्यादा बारिश

मौसम विभाग के अनुसार अभी उत्तर छत्तीसगढ़ में ही ज्यादा बारिश के आसार है। दक्षिण छत्तीसगढ़ व मध्य छत्तीसगढ़ में बारिश का प्रभाव थोड़ा कम रहेगा। इसके बाद सोमवार 1 जुलाई से बारिश का दायरा फिर से बढ़ेगा।

तापमान बढ़ा तो बढ़ी गर्मी

गुरुवार को प्रदेश भर में बलरामपुर सर्वाधिक गर्म रहा। एआरजी बलरामपुर का अधिकतम तापमान 37.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। इसी प्रकार रायपुर का अधिकतम तापमान 35.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया,जो सामान्य से 2.5 डिग्री ज्यादा है। इन दिनों तापमान बढ़ने से गर्मी व उमस भी थोड़ी बढ़ने लगी है,हालांकि शाम के वक्त मौसम का मिजाज थोड़ा बदल रहा है।

बिलासपुर मौसम अपडेट : बिलासपुर उमस से बेहाल, कब बरसेगी राहत? मानसून की बेरूखी से किसान चिंतित

न्यायधानी उमस की चपेट में है, जिससे लोग बेहाल हैं। गुरुवार को दिनभर धूप खिली जिससे शहरवासियों की मुश्किलें बढ़ गई हैं। मौसम विभाग के अनुसार, मानसून कमजोर पड़ने से यह स्थिति उत्पन्न हुई है। हालांकि, वर्षा की संभावना अभी भी बनी हुई है और किसी भी वक्त बारिश हो सकती है।

बिलासपुर : शहर में तापमान 40 डिग्री सेल्सियस के भीतर रहने के बावजूद, उमस के कारण लोग परेशान हैं। आसमान में बादल छाए हुए हैं, लेकिन बारिश का इंतजार अब भी जारी है। मौसम विभाग का कहना है कि पांच जुलाई तक अच्छी वर्षा की संभावना बनी हुई है।

मौसम विज्ञानियों का मानना है कि सिस्टम कमजोर पड़ने के कारण यह उमस भरी स्थिति उत्पन्न हुई है। हवाओं के साथ बादलों का खेल जारी है और किसी भी वक्त बारिश होने की संभावना है। आसमान में बादल छाए रहने के बावजूद अब तक बारिश नहीं हुई है। लोग इस उमस से राहत पाने के लिए बारिश की उम्मीद लगाए बैठे हैं।

इंतजार करें, मौसम अनुकूल है

मौसम विज्ञानी अब्दुल सिराज खान का कहना है कि 28 जून से लेकर एक जुलाई तक हल्की वर्षा की संभावना बनी हुई है। तीन जुलाई के बाद वर्षा की गतिविधियों में वृद्धि होगी। इससे उमस से परेशान लोगों को राहत मिल सकती है।

गरज-चमक के साथ पड़ेंगे छींटे

एक पूर्व पश्चिम द्रोणिका उत्तर-पश्चिम राजस्थान से मणिपुर तक 0.9 किलोमीटर ऊंचाई तक विस्तारित है। एक ऊपरी हवा का चक्रीय चक्रवाती परिसंचरण पश्चिम मध्य बंगाल की खाड़ी और उससे लगे उत्तर पश्चिम बंगाल की खाड़ी के ऊपर 1.5 किलोमीटर से 5.8 किलोमीटर ऊंचाई तक विस्तारित है। प्रदेश में 27 जून को अधिकांश स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने या गरज-चमक के साथ छींटे पड़ने की संभावना है।

एक से बढ़ेगी वर्षा की मात्रा

मौसम वेधशाला के मौसम विज्ञानी डा.एचपी चंद्रा के मुताबिक प्रदेश में एक दो स्थानों पर गरज-चमक के साथ अंधड़ चलने, वज्रपात होने तथा भारी वर्षा होने की भी संभावना है। अधिकतम तापमान में गिरावट संभावित है। भारी वर्षा का क्षेत्र मुख्यतः दक्षिण छत्तीसगढ रहने के आसार हैं। अगले पांच दिनों तक अधिकांश स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने की उम्मीद बनी हुई है। एक जुलाई से वर्षा की मात्रा बढ़ने की संभावना है।

𝐁𝐇𝐈𝐒𝐌 𝐏𝐀𝐓𝐄𝐋

𝐄𝐝𝐢𝐭𝐨𝐫 𝐚𝐭 𝐇𝐈𝐍𝐃𝐁𝐇𝐀𝐑𝐀𝐓 𝐋𝐢𝐯𝐞 ❤
error: Content is protected !!