छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ मौसम अपडेट : IMD का अलर्ट, रविवार से होगी तेज बारिश… प्रदेश में अब तक 21 प्रतिशत कम हुई है बरसात….

छत्तीसगढ़ मौसम अपडेट : : छत्‍तीसगढ़ में आने वाले दिनों में अच्छी बारिश होगी। मौसम विभाग के अनुसार रविवार 7 जुलाई से दक्षिण छत्तीसगढ़ में भारी बारिश (Heavy Rain in Chhattisgarh) की संभावना है। इसके साथ ही प्रदेश के अन्य क्षेत्रों में भी बारिश का प्रभाव बढ़ेगा।

एक जून से लेकर अभी तक प्रदेश में 194.7 मिमी वर्षा हुई है, जो सामान्य से 21 प्रतिशत कम है। मौसम विभाग का कहना है कि इस वर्ष जुलाई माह में अच्छी बारिश होगी। मालूम हो कि इस वर्ष प्रदेश में मानसून की एंट्री 8 जून से ही सुकमा से हो गई थी, लेकिन उसके बाद मानसून के आगे बढ़ने में विलंब हो गया।

शुक्रवार सुबह से ही रायपुर सहित प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में बादल छाने के साथ ही बारिश भी हुई। रायपुर शहर में भी दोपहर बाद कुछ क्षेत्रों में अच्छी बारिश हुई तो कुछ क्षेत्रों में हल्की बारिश होती रही। रायपुर का अधिकतम तापमान 33.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्य से 1.4डिग्री ज्यादा रहा।

इसी प्रकार प्रदेश भर में बालोद सर्वाधिक गर्म रहा। एडब्ल्यूएस बालोद का अधिकतम तापमान 33.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। प्रदेश में शुक्रवार को रामानुजर में 10 सेमी, शंकरगढ़-कोंटा में 6 सेमी, बेलतरा-पखांजुर में 5 सेमी, मनेंद्रगढ़-बिल्हा-नगरी में 4 सेमी बारिश हुई। इसके साथ ही प्रदेश के अन्य बहुत से क्षेत्रों में हल्की बारिश हुई। बारिश का यह दौर अब बढ़ने वाला है।

मौसम विज्ञानी एचपी चंद्रा ने बताया कि मानसून द्रोणिका मध्य समुद्र तल पर जैसलमेर, सीकर, उरई, चर्क, डाल्टनगंज, पुरुलिया और उसके बाद दक्षिण पूर्व की ओर उत्तर पूर्व बंगाल की खाड़ी तक स्थित है। एक द्रोणिका दक्षिण पूर्व उत्तर प्रदेश से पश्चिम असम तक 1.5 किमी से 3.1 किमी ऊंचाई तक है।

इसके प्रभाव से शनिवार को प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में हल्की से मध्यम वर्षा होगी। प्रदेश के कुछ क्षेत्रों में बिजली गिरने के साथ ही भारी वर्षा व अंधड़ चलने की संभावना है।

बिलासपुर मौसम अपडेट : तापमान में वृद्धि, पारा 31.4 डिग्री, बादल भी सक्रिय,

बिलासपुर मौसम वेधशाला के मौसम विज्ञानी डा. एचपी चंद्रा के मुताबिक मानसून द्रोणिका माध्य समुद्र तल पर सीकर, उरई, जैसलमेर, चर्क, डाल्टनगंज, पुरुलिया, कंटई और उसके बाद पूर्व-दक्षिण-पूर्व की ओर उत्तर-पूर्व बंगाल की खाड़ी तक स्थित है।

एक ऊपरी हवा का चक्रीय चक्रवाती परिसंचरण पूर्वी उत्तर प्रदेश के ऊपर 0.9 किमी ऊंचाई तक विस्तारित है। एक द्रोणिका दक्षिण पूर्व उत्तर प्रदेश से पश्चिम असम तक 1.5 किलोमीटर से 3.1 किमी ऊंचाई तक विस्तारित है। इसके प्रभाव से वर्षा की संभावना बनी हुई है। इधर शुक्रवार को दिनभर आसमान में बादल छाए रहे।

वर्षा नहीं होने से हल्की गर्मी व उमस का असर बना रहा। कहीं कहीं हल्की बूंदाबांदी भी हुई। यह स्थिति अभी एक-दो दिन बनी रहेगी, लेकिन राहत की बात यह है कि इस बीच वर्षा भी संभावित है।

आज भी वर्षा का अनुमान

प्रदेश में छह जुलाई को अनेक के स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने या गरज-चमक के साथ छींटे पड़ने की संभावना है। एक-दो स्थानों पर गरज-चमक के साथ भारी वर्षा होने, वज्रपात होने और अंधड़ चलने की संभावना है। भारी वर्षा का क्षेत्र मुख्यतः सरगुजा संभाग और उससे लगे जिलों में एक दो स्थानों पर संभव है। शनिवार के बाद वर्ष की स्थिति में सुधार होने की संभावना है।

प्रमुख शहरों का तापमान/ शहर अधिकतम न्यूनतम

  • बिलासपुर 31.4 24.8
  • पेंड्रारोड 29.4 22.6
  • अंबिकापुर 28.9 24.4
  • माना 32.6 25.7
  • जगदलपुर 29.8 23

𝐁𝐇𝐈𝐒𝐌 𝐏𝐀𝐓𝐄𝐋

𝐄𝐝𝐢𝐭𝐨𝐫 𝐚𝐭 𝐇𝐈𝐍𝐃𝐁𝐇𝐀𝐑𝐀𝐓 𝐋𝐢𝐯𝐞 ❤
error: Content is protected !!